Comments Off on ‘समय पर कर्ज चुकाने पर बैंक न वसूलें पेनाल्टी’ 1

‘समय पर कर्ज चुकाने पर बैंक न वसूलें पेनाल्टी’

अर्थव्यवस्था, ताज़ा समाचार, दिल्ली, प्रमुख ख़बरें, बड़ी ख़बरें

राजनीतिक दलों के बीच आरबीआइ गवर्नर रघुराम राजन के पद पर बने रहने या उन्हें हटाने को लेकर भले बयानबाजी चल रही है, मगर खुद राजन आम बैंक ग्राहकों के हितों की रक्षा करने वाले फैसले धड़ाधड़ ले रहे हैं। बुधवार को रिजर्व बैंक [आरबीआइ] ने फ्लोटिंग रेट पर होम लोन लेने वाले ग्राहकों को भारी राहत देते हुए उन्हें समय से पहले बगैर किसी पेनाल्टी के कर्ज चुकाने की सुविधा दे दी है। केंद्रीय बैंक ने इस बारे में बुधवार को एक दिशानिर्देश निकालकर बैंकों को सख्त आदेश दिया है। मंगलवार को आरबीआइ ने न्यूनतम सीमा से कम जमा राशि रखने पर पेनाल्टी लगाने की व्यवस्था को खत्म कर दिया था।
फ्लोटिंग रेट पर आवासीय कर्ज लेने वाले ग्राहकों संबंधी फैसले का होम लोन बाजार पर व्यापक असर पड़ेगा। इससे निजी बैंकों को होम लोन पर काफी ज्यादा ब्याज दे रहे ग्राहक कम ब्याज लेने वाले बैंकों में अपना कर्ज ट्रांसफर भी करवा सकेंगे। उदाहरण के तौर पर वर्ष 2004-05 के दौरान निजी क्षेत्र के आइसीआइसीआइ बैंक से महज 7.25-7.50 फीसद फ्लोटिंग रेट पर होम लोन लेने वाले ग्राहकों को पिछले दो-तीन वर्षो से 14-15 फीसद का ब्याज देना पड़ रहा है। 20 वर्ष की मियाद वाले कर्ज की अवधि बढ़ाकर 35 वर्ष तक कर दी गई है। होम लोन ग्राहक जो मासिक किस्त दे रहे हैं उसका 95 फीसद तक ब्याज भुगतान में ही जा रहा है।
ब्याज दर बढ़ने से फंसे ग्राहक अब पेनाल्टी की चिंता किए बगैर होम लोन का समय से पहले भुगतान कर सकेंगे। अभी तक समय से पहले भुगतान करने यानी प्री-पेमेंट पर काफी ज्यादा पेनाल्टी लगाई जाती रही है। जुर्माने की यह राशि ज्यादा होने की वजह से ग्राहक समय से पहले कर्ज मुक्त नहीं हो सकते थे। इस बारे में अप्रैल, 2014 में वार्षिक मौद्रिक नीति की घोषणा करते हुए ही आरबीआइ गवर्नर ने अपनी मंशा साफ कर दी थी। आरबीआइ ने बैंकों के विरोध को दरकिनार करते हुए होम लोन ग्राहकों को एक बड़ी राहत दी है।

Back to Top

Search