Comments Off on बिहार में कृषि आधारित उद्योग के लिए 1.5 करोड़ और लकड़ी आधारित उद्योग पर 75 लाख तक सब्सिडी 5

बिहार में कृषि आधारित उद्योग के लिए 1.5 करोड़ और लकड़ी आधारित उद्योग पर 75 लाख तक सब्सिडी

कृषि / पर्यावरण, बिहार

राज्य में कृषि आधारित उद्योग लगाने के लिए बिहार सरकार 15 से 30 % तक कैपिटल सब्सिडी देगी। अनुदान की अधिकतम सीमा 5 करोड़ रुपये तक निर्धारित की गई है। कृषि आधारित 7 सेक्टर में उद्योग लगाने के लिए यह सुविधा मिलेगी। इसमें मखाना, फल -सब्जी, चाय, मक्का, शहद, बीज और औषधीय व सुगंधित पौधा के उत्पादन के साथ इसके प्रोसेसिंग उद्योग शामिल हैं।
मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक ने बिहार कृषि निवेश प्रोत्साहन नीति-2020 व बिहार काष्ठ आधारित उद्योग निवेश प्रोत्साहन नीति-2020 समेत 49 प्रस्तावों को मंजूरी दी। कृषि आधारित उद्योग लगाने के लिए किसी व्यक्ति को 15 % कैपिटल सब्सिडी मिलेगी। किसान उत्पादक समूह (एफपीओ) को 25 % तक कैपिटल अनुदान मिलेगा। एससी, एसटी,ओबीसी वर्ग से जुड़े व्यक्ति और समूह को 5 % अतिरिक्त अनुदान मिलेगा। यानी, 20 से 30 % तक कैपिटल सब्सिडी का प्रावधान किया गया है।
पीजी व एमबीबीएस इंटर्न को भी मिलेगी प्रोत्साहन राशि
कोरोना काल में मरीजों की सेवा में लगे मेडिकल के स्नातकोत्तर के छात्र और एमबीबीएस इन्टर्न को भी एक माह के मानदेय के बराबर प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। मंगलवार को मंत्रिपरिषद ने इसकी मंजूरी दे दी। इस पर 8 करोड़ का संभावित खर्च आयेगा। मानदेय का आधार 01 अप्रैल 2020 का होगा।
प्रोत्साहन राशि के लिए विभिन्न चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल के प्राचार्य को यह सुनिश्चित करने की जिम्मेवारी होगी कि कोरोना वायरस की रोकथाम एवं चिकित्सा में अपने कर्तव्यों का निर्वहन में कौन-कौन स्नातकोत्तर छात्र और एमबीबीएस इन्टर्न इसके पात्र हैं? राज्य सरकार ने डॉक्टरों के लिए पहले ही इसकी घोषणा कर दी थी।

Back to Top

Search